धमतरी (वीएनएस)।खेती बचाओ आंदोलन समिति छत्तीसगढ़ के द्वारा लगातार किसानों के हित में संघर्ष किया जाता रहा है। यहां तक की 28 सितंबर को संपन्न ऐतिहासिक एवं विशाल किसान महापंचायत का सूत्रपात भी खेती बचाओ आंदोलन समिति धमतरी से ही हुआ है इसी क्रम में 28 सितंबर को खेती बचाओ आंदोलन समिति धमतरी के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ शासन के नाम पर सभी फसलों की समर्थन मूल्य पर खरीदी सहित 5 सूत्रीय मांगों को लेकर जिलाधीश धमतरी को ज्ञापन सौंपा । इस अवसर पर समिति के सलाहकार अधिवक्ता शत्रुहन साहू, टिकेश्वर साहू , सनत निर्मलकर रामविशाल साहू, अशफ़ाक हाशमी, अनिल साहू निशांत भट्ट, छबिलाल साहू चेतन साखरे, पुनीत साहू रसुल खान, आशा राम साहू , राम नारायण, असलम अशरफी निहाल सिंह साहू , पालेष साहू उपस्थि थे। उन्होंने कहा कि किसान पुत्र होने का दावा करने वाले प्रदेश के मुखिया की ओर प्रदेश के किसान बड़ी विश्वास , उम्मीद और आस भरी निगाहों से देख रही है कि कब घोषणा पत्र के अनुरूप 15 क्विंटल की सीमा हटाकर संपूर्ण उपज की खरीदी समर्थन मूल्य पर करेगी। खाद बीज की कालाबाजारी करने वाले नकली खाद के सौदागरों पर कार्यवाही क्यों नहीं हो रही है। खरीफ फसल में 15 क्विंटल धान के बाद शेष उपज एवं रवि फसल की संपूर्ण उपस्को जब किसानों ने पौने दामों पर बेचने के लिए मजबूर हो तब किस तरह प्रदेश में किसानों की कर्ज से हो रही आत्महत्या रुकेगी जब खेती के नाम पर बनाए गए गंगरेल बांध का पानी किसानों से पहले उद्योगों के लिए सुरक्षित किया जाये। 15 क्विन्टल की सीमा को हटाकर सम्पूर्ण उपज की खरीदी समर्थन मूल्य पर दस नवम्बर से शुरू किया जाये। फसल चक्र को अपनाने किसानों को प्रोत्साहन व प्रशिक्षण देकर सभी फसलों (खरीफ, रबी ओनहारी सियारी) की खरीदी समर्थन मूल्य पर किया जावें, खाद बीज की कालाबाजारी करने वाले नकली खाद – बीज के सौदागरों को रंगे हाथ पकडऩे के बाद भी उन पर कार्यवाही नहीं करने वाले नगर पंचायत कुरुद के जिम्मेदार अधिकारी – कर्मचारियों एवं खाद बीज की कालाबाजारी करने वाले नकली खाद – बीज के सौदागरों पर उचित कानूनी कार्यवाही की जाये। रबि फसल के लिये आवश्यकता अनुसार गंगरेल बांध से सिंचाई के लिये पानी दिया जाये। धमतरी जिले में लगातार धार्मिक उन्माद फैलाकर शांति व्यवस्था बिगाडऩे के लिये जिम्मेदार असामाजिक तत्वों पर अंकुश लगाकर क्षेत्र में शांति व्यवस्था बहाल की जाये।