नये कलेवर में आएगा मुक्तिबोध स्मारक संग्रहालय, मुख्यमंत्री की पहल पर किया गया कार्य
नये कलेवर में आएगा मुक्तिबोध स्मारक संग्रहालय, मुख्यमंत्री की पहल पर किया गया कार्य
नये कलेवर में आएगा मुक्तिबोध स्मारक संग्रहालय, मुख्यमंत्री की पहल पर किया गया कार्य
नये कलेवर में आएगा मुक्तिबोध स्मारक संग्रहालय, मुख्यमंत्री की पहल पर किया गया कार्य

गजानन माधव मुक्तिबोध की जयंती 13 नवम्बर से यहां विभिन्न साहित्यिक गतिविधियां होंगी प्रारंभ

राजनांदगांव (वीएनएस)। त्रिवेणी परिसर स्थित मुक्तिबोध स्मारक संग्रहालय व सृजन संवाद अब एक नये कलेवर में आएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर यहां कार्य किया गया।

कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने कहा कि राजनांदगांव हमारे देश के तीन महान साहित्यकारों गजानन माधव मुक्तिबोध कक्ष, डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी, डॉ. बल्देव प्रसाद मिश्र की कर्म भूमि रही है। उनका साहित्यिक अवदान अविस्मरणीय है और उनकी स्मृतियां हमारी अमूल्य धरोहर है। उनका लेखन व जीवन, प्रेरक तथा मार्गदर्शक है, इसे सहजने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि गजानन माधव मुक्तिबोध की जयंती 13 नवम्बर से यहां विभिन्न साहित्यिक गतिविधियां भी प्रारंभ की जाएगी। उन्होंने कहा कि मुक्तिबोध स्मारक संग्रहालय व सृजन संवाद के जीर्णोद्धार का कार्य प्राथमिकता के साथ किया गया।

उल्लेखनीय है कि संग्रहालय में मरम्मत व रंगरोगन का कार्य किया गया है। वाटर पु्रफिंग की गई है। इसके साथ ही पुट्टी, पेंट करने के साथ ही विद्युत की व्यवस्था की गई है। त्रिवेणी संग्रहालय में देश के तीन महान साहित्यकारों गजानन माधव मुक्तिबोध कक्ष, डॉ. पदुमलाल पुन्नालाल बख्शी, डॉ. बल्देव प्रसाद मिश्र की कृतियां, पाण्डुलिपि व वस्तुएं सुरक्षित रखी गई है। उनकी रचनाएं यहां संकलित की गई है। उनके डायरी के अंश तथा उनके जीवन के प्रेरक प्रसंग की जानकारी यहां अंकित है। साहित्य के प्रति रूचि रखने वाले विद्यार्थी व शोधार्थियों के लिए यह संग्रहालय महत्वपूर्ण केन्द्र के रूप में स्थापित होगा।