पढ़ाई के साथ-साथ अब हुनर की भी शिक्षा
पढ़ाई के साथ-साथ अब हुनर की भी शिक्षा

कांकेर (वीएनएस)। स्कूलों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को उनकी स्कूली शिक्षा के साथ-साथ अब कौशल विकास की भी शिक्षा दी जाएगी। कक्षा 11वीं में अध्ययनरत विद्यार्थियों को आई.टी.आई. में विभिन्न ट्रेड में प्रशिक्षण दिया जाएगा जिससे वे 12वीं उत्तीर्ण होने के साथ-साथ उनका कौशल विकास भी हो सके। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने 17 सितम्बर को स्कूलों तथा आई.टी.आई. में संयुक्त रूप से रोजगारोन्मुखी कौशल विकास तथा व्यवसायिक शिक्षा देकर रोजगार उपलब्ध कराने संबंधी योजना का शुभारंभ किया गया। योजनांतर्गत राज्य के सभी विकासखण्ड मुख्यालय में स्थित हायर सेकेण्ड्री स्कूल के विद्यार्थियों के लिए व्यवसायिक प्रशिक्षण प्रारंभ किया जाना है। विकासखण्ड मुख्यालय स्तर पर एक-एक आई.टी.आई. एवं स्कूल का चिन्हांकन कर प्रशिक्षण के लिए दो-दो ट्रेडों का चयन किया गया है, जिसमें केवल एकवर्षीय ट्रेड सम्मिलित किये गए हैं, जिसे स्कूली छात्र-छात्राओं को दो वर्ष की समयावधि में पूर्ण किया जाना है। इस योजना का उद्देश्य व्यवसायिक प्रशिक्षण के प्रति छात्रों को जागरूक करना है, जिसके तहत् विद्यार्थी 12 वर्ष की स्कूली शिक्षा पूर्ण करने तक आई.टी.आई. से व्यवसायिक प्रशिक्षण का प्रमाण-पत्र भी प्राप्त कर सकें तथा हाई स्कूल, हायर सेकेण्ड्री स्तर पर प्राप्त व्यवसायिक प्रमाण-पत्र के आधार पर युवाओं के रोजगार के अवसर में वृद्धि एवं कौशल क्षमता को विकसित करना है।

कांकेर जिले में इस योजना के अंतर्गत औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था महिला कांकेर में ट्रेड- सीविंग टेक्नोलॉजी में स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय नरहरदेव कांकेर के 20 छात्रा, आईटीआई बालक कांकेर (माकड़ी) में ट्रेड-वेल्डर में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बागोडार के 20 छात्र, आईटीआई चारामा में ट्रेड-डीजल मैकेनिक में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय गोलकुम्हड़ा के 20 छात्र, आईटीआई नरहरपुर में ट्रेड-वेल्डर में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नरहरपुर के 20 छात्र एवं आईटीआई भानुप्रतापपुर में ट्रेड-वेल्डर में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भानुप्रतापपुर के 20 छात्रों का प्रशिक्षण प्रारंभ किया जा चुका है। स्कूल शिक्षा की परीक्षा छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मण्डल एवं व्यवसायिक प्रशिक्षण की परीक्षा स्टेट बोर्ड ऑफ एक्जामिनेशन, संचालनालय रोजगार एवं प्रशिक्षण ने पृथक-पृथक आयोजित की जावेगी। प्रशिक्षण उपरान्त सफल प्रशिक्षणार्थियों को पृथक-पृथक प्रमाण-पत्र प्रदान किये जाएंगे।